Saturday, November 10, 2012

संगीत र्नि‍देशक अर्नब चटर्जी - एक बातचीत उनके नये एलबम छत्‍तीसगढ़ के माटी के साथ

संगीत र्नि‍देशक अर्नब चटर्जी - एक बातचीत 
उनके नये एलबम छत्‍तीसगढ़ के माटी के साथ

.
               
                                               














सीजी स्‍वर की तरफ से अर्नब चटर्जी के उज्‍ज्‍वल भवि‍ष्‍य की शुभकामनाएं.......

Friday, September 28, 2012

लता मंगेशकर - एक आवाज 83 साल की

लता मंगेशकर,  एक आवाज...;भारत की आवाज.....जि‍स आवाज को हम सब बचपन से लगातार सुनते आ रहे हैं....शायद ही कोई दि‍न गुजरता हो जब हमारे कानों को ये आवाज छूकर ना जाती हो.....आज ये आवाज 83 बरस की हो गई है....करते हैं इस आवाज को हम नमन.......


आलेख व स्‍वर-  

सुनील चि‍पडे.







भारत रत्न लता मंगेशकर (जन्म 28 सितंबर, 1929 इंदौर), . भारत की सबसे लोकप्रिय और आदरणीय गायिका हैं जिनका छ: दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। हालांकि लता जी ने लगभग तीस से ज्यादा भाषाओं में फ़िल्मी और गैर-फ़िल्मी गाने गाये हैं लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एक पार्श्वगायक के रूप में रही है। लता की जादुई आवाज़ के भारतीय उपमहाद्वीप के साथ-साथ पूरी दुनिया में दीवाने हैं। टाईम पत्रिका ने उन्हें भारतीय पार्श्वगायन की अपरिहार्य और एकछत्र साम्राज्ञी स्वीकार किया है।
पुरस्कार
  • फिल्म फेर पुरस्कार (1958, 1962, 1965, 1969, 1993 and 1994)
  • राष्ट्रीय पुरस्कार (1972, 1975 and 1990)
  • महाराष्ट्र सरकार पुरस्कार (1966 and 1967)
  • 1969 - पद्म भूषण
  • 1974 - दुनिया मे सबसे अधिक गीत गाने का गिनीज़ बुक रिकॉर्ड
  • 1989 - दादा साहब फाल्के पुरस्कार
  • 1993 - फिल्म फेर का लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 1996 - स्क्रीन का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 1997 - राजीव गान्धी पुरस्कार
  • 1999 - एन.टी.आर. पुरस्कार
  • 1999 - पद्म विभूषण
  • 1999 - ज़ी सिने का का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2000 - आई. आई. ए. एफ. का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2001 - स्टारडस्ट का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2001 - भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान "भारत रत्न"
  • 2001 - नूरजहाँ पुरस्कार
  • 2001 - महाराष्ट्र भुषण

    LataMangeshkar.jpg
  • पिता दिनानाथ मंगेशकर शास्त्रीय गायक थे.
  • उन्होने अपना पहला गाना मराठी फिल्म 'किती हसाल' (कितना हसोगे?) (1942) में गाया था.
  • लता मंगेशकर को सबसे बडा ब्रेक फिल्म महल से मिला. उनका गाया "आयेगा आने वाला" सुपर डुपर हिट था.
  • लता मंगेशकर अब तक 20 से अधिक भाषाओं मे 30000 से अधिक गाने गा चुकी हैं.
  • लता मंगेशकर ने 1980 के बाद से फ़िल्मो मे गाना कम कर दिया और स्टेज शो पर अधिक ध्यान देने लगी.
  • लता ही एकमात्र ऐसी जीवित व्यक्ति हैं जिनके नाम से पुरस्कार दिए जाते हैं.
  • लता मंगेशकर ने आनंद गान बैनर तले फ़िल्मो का निर्माण भी किया है और संगीत भी दिया है.
  • वे हमेशा नंगे पाँव गाना गाती हैं.


Sunday, September 9, 2012

बोलते विचार 67 व्यर्थ के झगड़े का इलाज


व्यर्थ के झगड़े का इलाज
आलेख व स्‍वर 
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा 



एक मोहल्ले की एक सड़क के बीच में एक कम पढ़ी-लिखी निम्न वर्गीय औरत एक साइकिल सवार को रोककरडाँट रही थी कि यदि तुम्हारी साइकिल से मेरे टककर लग जाती तो मेरे चोट लग जाती। साइकिल वाला जवाब दे रहा था कि न तो तुम्हारे चोट लगी है और न मेरी साइकिल ने तुम्हे छुआ ही है। मैं तो एक फुट की दूरी से  साइकिल निकाल रहा था। औरत बिगड़कर कहने लगी कि नहीं, तुम्हें साइकिल को और ज्यादा दूरी से  निकालना था, तुम्हारी गलती से मेरे चोट लग सकती थी। अगर लग जाती तो ? औरत के तेवर देखकर लग रहाथा कि वह साइकिल वाले को वहाँ से जल्दी नहीं जाने देगी और उसे खरी-खोटी सुनाती ही रहेगी।

साइकिल वाला जानता था कि साइकिल चलाने में उसने लेशमात्र भी गलती नहीं की थी, उलटे उसने औरत को सड़क के बीचों बीच चलते देखकर उससे बचने में विशेष सावधानी बरती थी। फिर भी उसने तत्काल गलती मान ली और बोला, ‘माँ जी ! मुझे एक बार माफ कर दो बस। आगे से ऐसी गलती कभी नहीं करूँगा।औरत ने अपनी जीत की खुशी में साइकिल वाले को मुक्त कर दिया।

जिंदगी में जाने कितने ऐसे अवसर आते हैं, जब हम दूसरे की नासमझी या गलती के कारण परेशानी में फँस जाते हैं। उपर्युक्त प्रकरण में यदि साइकिल वाला बहस को बढ़ाता रहता तो बात बिगड़ती ही चली जाती। उसका माफी माँगकर बखेड़े को जल्दी से निबट डालने का कदम बहुत समझदारी का था। ऐसा करने से उसकी जेब से कुछ नहीं गया और उसने एक नासमझ के क्रोध को जीत लिया। यदि वह अपनी सफाई दे देकर औरत के क्रोध को बढ़ाता जाता और अपने अहम् के नाम पर स्वयं भी अधिकाधिक क्रुद्ध होता जाता तो अपना ही नुकसान करता।

निष्कर्षतः किसी व्यर्थ के झगड़े का इलाज स्वयं को गलत न सिद्ध करने के लिए झगड़ा बढ़ाना नहीं है, उसका इलाज झगड़ा करने वाले के हाथ जोड़ लेना है।

Monday, September 3, 2012

बोलते विचार 66 वैयक्तिक लाभ और सामाजिक लाभ



बोलते विचार 66
वैयक्तिक लाभ और सामाजिक लाभ
 आलेख व स्‍वर 
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा 



टी. वी. बिगड़ गया था। दुकानदार को फोन कर दिया, उसका आदमी घर आया और सुधारकर चला गया। पैसे लेकर रसीद  दे गया, सब बढि़या। एक बार वॉशिंग मशीन बिगड़ गई। उसके दुकानदार को भी उसी प्रकार फोन किया। उसने मना करते हुए कहा कि शिकायत लेकर स्वयं दुकान तक पहुँचना जरूरी है। पहले समझ में नहीं आया कि क्यों, पर वहाँ पहुँचने पर पता चला कि निर्धारित न्यूनतम राशि (दुकान के मैकेनिक के पारिश्रमि‍क और आने-जाने के खर्च को मिलाकर) जमा करना जरूरी है। ठीक है, राशि जमा कर दी। पर वहाँ यह कहे बिना नहीं रहा गया कि यह तो हम घर पर भी दे देते। इस पर वे बोले कि हम धोखा खा चुके हैं। एक संभ्रांत माने जाने वाले सज्जन ने घर बुलाया था। उनके यहाँ का काम करने के बाद जब बिल दिया तो वे बिगडने-झगड़ने लगे कि इतने ज़रा से काम के लिए इतने रूपए नहीं देंगे। तब से हमने नियम बना लिया कि बिना अग्रिम राशि  जमा कराए किसी के भी यहाँ नहीं जाएँगे।

आशय स्पष्ट है कि करे एक, भरें सब। समाज के कुछ अविवेकी और बदनीयत लोगों के कारण दूसरों को बिना बात के परेशानी-उठानी पड़ती है; एक के अविश्वसनीय व्यवहार के कारण अन्यों पर भी विश्वास करने में दुविधा होने लगती है। उपर्युक्त प्रकरण में दुकानदार को दोष देना फिजूल है, क्योंकि वह पहले से यह कभी नहीं जान पाएगा कि किस क्रेता का व्यवहार काम निकल जाने के बाद कैसा रहेगा। जो क्रेता गलत व्यवहार करता है, वह भविष्य के लिए दुकानदार विशेष से अपने ही संबंधों को बिगाड़ने वाला नहीं, दूसरों के लिए भी सामाजिक विद्रूपताएँ सामने खड़ी करने वाला अपराधी बन जाता है। वह केवल अपने छोटे लाभ के बारे में सोचता है, बड़े लाभ के बारे में नहीं सोच पाता। (यदि उन संभ्रांत क्रेता महोदय को मशीन की सुधरवाई महँगी ही लगती थी तो उन्हें मैकेनिक को अपने घर बुलाने के पहले दुकानदार से फोन पर ही रेट आदि की बात स्पष्ट कर लेनी चाहिए थी।)

सदा याद रखी जाने वाली बात है कि थोड़े से पैसों की ‘अस्वीकृत बचत’ के वैयक्तिक लाभ की तुलना में अच्छे संबंधों के स्थायी सामाजिक लाभ का महत्व बहुत अधिक है।

Sunday, September 2, 2012

Bolte Shabd 98 'अच्‍छा' व 'भला'





बोलते शब्‍द 98
आलेख
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा

स्‍वर
संज्ञा टंडन



180. 'अच्‍छा' व 'भला'






Production - Libra Media Group, India

Friday, August 31, 2012

Bolte Shabd 97 'अख़बार' व 'गज़ट'





बोलते शब्‍द 97


आलेख
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा

स्‍वर
संज्ञा टंडन


179. 'अख़बार' व 'गज़ट'








Production-libra media group

Wednesday, August 29, 2012

Bolte Vichar 65 उधार लेने और देने से बचिए


बोलते विचार 65
उधार लेने और देने से बचिए

 आलेख व स्‍वर 
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा 


प्रोफेसर साहब ने किसी-किसी  दुकान पर लिखे हुए वाक्य उधार प्रेम की  कैंची हैसे भारी शिक्षा ली थी। वे अपने प्रेम संबंध किसी से भी खराब नहीं करना चाहते थे, इसलिए वे न तो किसी से रूपए उधार लेते थे और न किसी को उधार देते थे दूसरी ओेर, वे उधार माँगने वाले छोटे-मोटे लोगों की थोड़े   बहुत रूपए-पैसों से मदद जरूर करते थे; लेकिन उनसे यह कहे हुए कि ये   रूपए वापस नहीं लूँगा इसका मुख्य कारण वे यह बताते थे कि ऐसा करने  से उनके मन पर यह बोझ और तनाव बिलकुल नहीं रह जाता था कि वह व्यक्ति ऋणस्वरूप लिये गए रूपए अपनी दी हुई ज़बान के  अनुसार समय पर या कभी वापस करेगा या नहीं। हमें ऐसी स्थिति कई बार झेलनी पड़ती है कि हमने तो अपनी शराफत में किसी जरूरतमंद को उसकी मदद के    नाम पर रूपए उधार तत्क्षण दे दिए कि वह बेचारा मुश्किल में है और दूसरेउसने रूपए माँगते समय हमसे दुनिया भर की इन्सानियत दिखाते हुए    यह  वचन भी भरा कि वह वे रूपए अमुक तिथि को जरूर वापस कर देगा    (यहाँ ब्याज के धंधे और लिखत- पढ़त की बात बिल्कुल नहीं है)। पर बाद में उन रूपयों का वापस मिलनादर्जनों बार टलती हुई अनिश्चिततामें बदलता  चला गया। प्रोफेसर साहब कहा करते थे कि इस प्रकार वह झूठा और बेईमान ऋणी हमें बेवकूफ बनाने में सफल हो जाता है। वे ऐसे मामलों में    अपना भारी सा अहसान ऋण मांगने वाले पर पटक कर शुरू में ही आगामी   दुविधा से मुक्त हो जाते थे। और यदि उनसे कोई यह पूछता कि वे रूपए तो क्या तो वे उत्तर देते -
रहिमन के नर मर चुके जे कहुँ माँगन नाहिं।
उनते पहले वे मुए जिन मुख निकसत नाहि।।

प्रोफेसर साहब का दृष्टिकोण मानवतावादी था; पर एक बात वे यह भी  कहते थे, जो रहीम ने नहीं कही थी, कि उधार लेकर वापस करने का वादा  करके उसे न चुकाने वाले कृतघ्न आदमी से एक भिखारी बहुत ज्यादा  ईमानदार होता है, क्योंकि यह विश्वासघात नहीं करता। केवल अपना  स्वाभिमान खोता है।


Production-libra media group, bilaspur,india

Tuesday, August 28, 2012

Bolte Shabd 96 'अंत' व 'सीमा'




बोलते शब्‍द 96


आलेख
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा


स्‍वर
संज्ञा टंडन


178. 'अंत' व 'सीमा'







Production - Libra media group

Friday, August 24, 2012

Bolte VIchar 64 नि‍र्णय के पूर्व


बोलते विचार 64

नि‍र्णय के पूर्व

 आलेख व स्‍वर 
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा 

महेश अपने भाई और पिता से जमीन-जायदाद संबंधी मुकदमा लड़ रहे थे, जिस सिलसिले में उन्हें अपने गाँव से अपनी बड़ी बहन के नगर कई बार जाना हुआ करता था। स्वाभाविक था कि वे बहन के यहाँ ठहर जाया करते थे। वहाँ वे जब-तब पिता के विरूद्ध विष उगलते रहते थे, जिसके प्रभाव से बहन पिता को इतना बुरा समझने लगी थी कि उसका मन उनके पास जाने का भी नहीं होता था। कुछ समय बाद जब एक बार उसका किसी विशेष अवसर पर गाँव जाना हुआ तो पिता ने उसे महेश के विरूद्ध बीसियों बातें बता डालीं, जिनका उस पर इतना प्रभाव पड़ा कि उसने महेश को आगे अपने घर पर ठहरने को क्या, आने तक को मना कर दिया।

यह सच्ची घटना सिर्फ यह सोचकर लिखी गई है कि किसी बात पर विश्वास केवल एक पक्ष को सुनकर करना उचित नहीं है - विशेषकर तब, जब बात में किसी व्यक्ति की बुराई-ही-बुराई हो। किसी की लगातार और हमेशा सिर्फ बुराई करने वाला व्यक्ति सामान्यतया ‘उस किसी’ के प्रति व्यक्तिगत विद्वेष से भरा हुआ होता है। जब दोनों पक्ष एक-दूसरे पर आरोप पर आरोप लगाते जा रहे हों तब सच्चाई को खोज निकालना आसान नहीं होता। कचहरियों की जरूरत इसीलिए पड़ती है।

यदि आप किसी ऐसे मामले में दो पक्षों की बीच फँस जाएँ तो ‘किसी एक की’ अच्छी-से-अच्छी या बुरी-से-बुरी बात को भी सुनकर अपना निर्णय कभी न दें।

Thursday, August 9, 2012

रवीन्‍द्रनाथ टैगोर की छत्‍तीसगढ़ से जुड़ी स्‍मृति‍यों को जि‍या हमने.....





रवीन्द्रनाथ टैगोर की पत्नी क्षयराग से पीडि़त थीं। वे उनको लेकर पेण्ड्रा के टीबी सेनिटारियम आए थे और कुछ समय उन्होंने यहां बिताया था। इस बात का जिक्र अक्सर सुनने पढ़ने में आता है। लेकिन 7 अगस्त 2012 को जब पूरे देश में रवीन्द्रनाथ टैगोर की 150वीं जयंती का समापन समारोह मनाया जा रहा था, हम बिलासपुर के 40 कलाकारों के एक दल ने सेनिटोरियम में उसी स्थल पर साधु हॉल में रवीन्द्र संध्या में भागेदारी निभाई और जो अनुभूति व अनुभव साथ लेकर लौटे हैं उसको व्यक्त कर पाना नामुमकिन है।

दक्षिण मध्य सांस्कृतिक प्रक्षेत्र, नागपुर के सौजन्य से काव्य भारती और संस्कार भारती के नेतृत्व में ये आयोजन जिला प्रशासन के सहयोग से आयोजित किया गया था । तीन दिवसीय कार्यक्रम के प्रथम दो दिन बिलासपुर में कलकत्ता के कलाकारों ने प्रस्तुति दी और अंतिम दिन बिलासपुर के कलाकार रवीन्द्र नाथ टैगोर को याद करने पेण्ड्रा के उसी स्थल पर पहुंचे जहां रवीन्द्र नाथ ने अपने जीवन का एक महीना गुजारा था।

रवीन्द्र नाथ टैगोर की कविताओं का हिन्दी व छत्तीसगढ़ी में अनुवाद मनीष दत्त ने किया, आठ नन्हीं बच्चियों ने सविता कुशवाहा के निर्देशन में इसको प्रस्तुत किया और इस गीत रूपक के लिये मंच पर गायन अल्पना रॉय व सुमेला चटर्जी लाहिड़ी ने किया, तबले पर संगत दी मनोज वैद्य ने और रूपक वाचन संज्ञा टंडन ने किया।


गुरुदेव जब पेण्ड्रा आए थे तब बिलासपुर स्टेशन पर उन्होंने एक कविता लिखी थी ‘फांकी‘,इस बात का जिक्र भी अक्सर सुना जाता है और आज भी ये कविता बिलासपुर के स्टेशन पर पढ़ी जा सकती है। इस कविता का नाट्य रूपांतर ‘छल‘ अलक राय ने किया और श्रुति नाट्य के रूप में इसे मंच पर प्रस्तुत किया सुमेला, मिनोति चटर्जी, असित वरण डे, विमल हालदार आदि कलाकारों ने।

श्रुति नाट्य बंगाल और महाराष्ट्र की एक प्राचीन नाट्य विधा है जिसमें मंच पर अभिनय नहीं होता लेकिन पूरे भावों और संगीत के साथ कलाकार मंचीय प्रस्तुति देते हैं।

रवीन्द्र संध्या की तीसरी प्रस्तुति थी अग्रज के कलाकारों द्वारा गुरुदेव रचित दो कहानियों ‘मुक्ति का बंधन‘ और ‘अपरिचिता‘ के नाट्य रूपांतर पर अभिनय। सुनील चिपड़े के निर्देषन में 22 कलाकारों की सूत्रधार पद्धति में हुई ये प्रस्तुति रंगरवीन्द्र नाम से पेश की गई।


टैगोर जी ने लिखते समय हर पहलू को छुआ है। समाज के बीच का व्यंग्य हो, चाहे कुछ अनछुई बातें। चरित्रों और घटनाओं को बुनने का काम बड़ी कुषलता से हुआ है। उन्होंने संगीत की समझ से ही अपने संसार को सींचा है और रवीन्द्र संध्या के माध्यम से उनकी लेखनी के विभिन्न स्वरूपों को मंच पर हमने मिलकर प्रस्तुत करने का प्रयास किया और बदले में अपने आंचल में भर कर लाए हैं एक ऐसा अहसास, एक ऐसी अनुभूति कि गुरुदेव ने यहीं बिताए थे चंद लमहे और हम महसूस कर रहे थे उनकी उपस्थिति, उनका एक स्पर्श।


Wednesday, August 8, 2012

bolte vichar 63 संन्‍यास के बि‍ना भी.......


बोलते विचार 63

संन्‍यास के बि‍ना भी.......




 आलेख व स्‍वर 
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा 


अच्छा बनने की चाह तो बहुतों में होती है और उसके लिए कोशिश भी बहुत से लोग करते हैं, पर अधि‍क-से-अधिक लोगों के लिए अच्छा बनकर दिखाने वाले व्यक्ति विरले ही होते हैं। इसका कारण यह है कि अच्छे-बुरे व्यक्ति हमारे अच्छा या बुरा होने का मूल्यांकन करते हैं, उनकी संख्या का भी कोई अंत नहीं है और अच्छाइयों तथा बुराइयों की भी कोई सीमा नहीं है।

अच्छा होने का संबंध मनुष्य के भीतर से भी है और बाहर से भी। बाहर की अपेक्षा भीतर से अच्छा होने का महत्व बहुत अधिक है ; क्योंकि स्वयं को केवल बाहर से अच्छा दिखाने वाले व्यक्ति ढोंगी होते हैं। उनकी पोल आगे-पीछे जरूर खुल जाती हैं। दूसरी ओर, केवल भीतर से अच्छे देर-सबेर दूसरों की नज़रों में अपनी अपेक्षित पहचान और इज्ज़त बना ही लेते हैं। यदि वे बाहर से भी अच्छे हुए, तब सोने में सुहागा है। उन अच्छों की सुगंध फैलते देर नहीं लगती।

उपर्युक्त उच्च अवस्था संत और संन्यासी बनकर प्राप्त करना अधिक सरल है, क्योंकि उन पर पारिवारिक जिम्मेदारियाँ नहीं होतीं और उन्हें सामाजिक आवश्यकताओं और प्रतिद्वंद्विताओं का सामना कम करना पड़ता है। अन्य लोगों को एक-दूसरे की इच्छाओं के पारस्परिक टकराव और बहुत व्यापी ईर्ष्‍या के कारण अच्छा बनने और बना रहने के लिये विकट संघर्ष करना पड़ता है। संतों और संन्यासियों के निजी जीवन की तुलना में सामान्य आदमियों के जीवन में विरोधों और शत्रुताओं के अवसर अधिक आते हैं। ऐसी स्थिति में भी जो व्यक्ति नैतिक मूल्यों पर खरे उतरते हैं, वे वस्तुतः संतों और संन्यासियों से भी अधिक बड़े हैं और मानव मात्र के लिए आदर्श एवं अनुकरणीय हैं। 

गांधीजी ने संसार की कर्मस्थली से बिना अलग हुए यह सिद्ध कर दिखाया कि आदमी सांसारिक गतिविधियों से विरक्‍त न रहकर भी अधिकाधिक लोगों के लिए अधिकाधिक अच्छा बन सकता है। यही बात गांधीजी के पदचिन्हों पर ईमानदारी से चलने वालों पर लागू है। निष्कर्ष यह है कि अच्छा बनने के लिए संन्यास लेना जरूरी नहीं है, शादी न करना जरूरी नहीं है, चौबीसों घंटे भजन-प्रवचन करना-सुनना जरूरी नहीं है।

Production-Libra Media Group

Monday, August 6, 2012

Bolte Shabd 95 - 'अंकुश' व 'नि‍यंत्रण'




बोलते शब्‍द 95


आलेख
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा

स्‍वर
संज्ञा टंडन


              177. 'अंकुश' व 'नि‍यंत्रण'



Production - Libra Media Group, Bilaspur, India

Saturday, August 4, 2012

Bolte Vichar 62 गैर ज़िम्‍मेदार लोग और आप


बोलते विचार 62

गैर ज़िम्‍मेदार लोग और आप


आलेख व स्‍वर 
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा 


राजेन्द्र शनिवार को घर आए थे। कहकर गए कि सोमवार को आपकी सामग्री पहुँचा दूँगा। अपना फोन नंबर भी दे गए। जब बुधवार तक उनका कोई अता-पता नहीं रहा तो उनके नंबर पर फोन किया। उधर से आवाज आई कि वे हैं नहीं, जब आएँगे तब उन्हें बता देंगे, वे आपसे बात कर लेंगे। रात को उन्हें दूसरी बार फोन किया। जवाब मिला कि वे आकर चले गए, उन्हें बताना भूल गया कि आपका फोन आया था। अगली सुबह फिर फोन किया। उधर से सूचना मिली कि वे कभी-कभी ही यहाँ आते हैं। यह फोन नंबर उनका नहीं, हमारा है।

ट्रांसपोर्ट वाले गांगुली साहब के कार्यालय में कुछ ज़रूरी बात करने के इरादे से गया। उनके असिस्टेंट ने कहा कि वे अभी तो कुछ घंटों के लिए बाहर गए हुए हैं, जैसे ही वापस आएँगे, उन्हें बता दूँगा कि आप आए थे। उसने काम पूछा। बता दिया। बोले, ठीक है, कल इसी समय आ जाइए। अगले दिन गया। असिस्टेंड ने देखकर कहा कि अरे, मैं उन्हें कल बताना भूल गया, अभी बता देता हूँ।

सुधीर बाजार में मिला। बोला, शाम को आपके यहाँ आऊँगा। कुछ खास काम था। इंतजार रहा। नहीं आया। फोन पर भी नहीं बताया कि वह नहीं आ पाएगा। अगली सुबह उसके यहाँ आया। उसने अपनी ओर से पिछली शाम न आने की कोई चर्चा नहीं की। जब पूछा तो बताया कि, हाँ मुझे जिस काम से आना था, मैं पूरा नहीं कर पाया था।

एक परिचित के यहाँ का नौकर घर से कुछ छोटा-मोटा सामान बेचने के लिए ले गया था। बाद में वह जब-जब तब-तब झुककर बोला कि आज शाम को हिसाब करने के लिए जरूर पहुँच जाऊँगा। उसके बारे में अन्यों से जिक्र करने पर पता चला कि वह उन पैंसों को शराब आदि में फूँक चुका है।

इस प्रकार की बातें आपके साथ भी रोज घटित होती होंगी। लेकिन मन छोटा न करें। गलत आदमी हर युग में रहे हैं और हर युग में रहेंगे। यदि आप दूसरों से अपनी सुव्यवस्थित चाहतों के अनुरूप अपेक्षाएँ करेंगे तो अक्सर दुःख पायेंगे। दूसरों के विश्वासघात तक को सहन करने की ताकत रखिए। आगे बढि़ए। जो खो गया उसे भुलाते चलिए। शायर के शब्दों में, जिन्दगी का साथ निभाते चलिए। लोगों के निम्न स्तरीय व्यवहार पर अपना मानसिक संतुलन न खोइए। उन पर क्रोध करके अपनी हड्डियों को कमजो़र न बनाइए। पोप ने कहा है, ‘क्रोध करना दूसरों की गलती का अपने से प्रतिशोध लेना है।’

यदि आप अच्छे हैं तो अपने चारों ओर के लोगों के दायित्वहीन व्यवहार का प्रभाव स्वयं पर वैसे ही मत पड़ने दीजिए जैसे कमल अपने चारों ओर की कीचड़ का प्रभाव अपने ऊपर नहीं पड़ने  देता।


Production - Libra Media Group, Bilaspur, India

Friday, August 3, 2012

Bolte Shabd 94 'हुए' व 'लिए'





बोलते शब्‍द 94


आलेख
डॉ.रमेश चंद्र महरोत्रा


स्‍वर
संज्ञा टंडन


176. 'हुए' व 'लिए'





Production - Libra Media Group